एडेड कालेजों की प्रधानाचार्य भर्ती लटकी, तदर्थ शिक्षकों को विनियमित करने पर असमंजस

एडेड कालेजों की प्रधानाचार्य भर्ती लटकी, तदर्थ शिक्षकों को विनियमित करने पर असमंजस

प्रयागराज : शैक्षिक कैलेंडर में सत्र बदलते जा रहे हैं। वहीं, एडेड माध्यमिक कालेजों की प्रधानाचार्य भर्ती 2013 में कोई बदलाव नहीं हो रहा है। सात वर्ष से इस भर्ती के शुरू होने का मुहूर्त तय नहीं हो पा रहा है, जबकि बड़ी संख्या में कालेजों में कार्यवाहक जिम्मा संभाल रहे हैं। लगातार भर्ती शुरू करने की मांग भी हो रही है। कुछ माह पहले चयन बोर्ड ने दावा किया था कि आवेदनों की स्क्रीनिंग और छंटाई चल रही है, यह कार्य पूरा होने का नाम ही नहीं ले रहा है।

प्रदेश के अशासकीय सहायताप्राप्त माध्यमिक (एडेड) कालेजों में संस्था प्रमुख यानी प्रधानाचार्य भर्ती का जिम्मा भी माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र पर ही है। 2013 के प्रवक्ता व प्रशिक्षित स्नातक शिक्षकों का चयन लगभग पूरा हो चुका है लेकिन प्रधानाचार्य चयन की प्रक्रिया शुरू होने की राह देखी जा रही है। उस समय 634 पदों के लिए आवेदन लिए गए थे। चयन बोर्ड के मौजूदा अध्यक्ष व बोर्ड ने अपनी बैठक में ऐलान किया था कि इस भर्ती को आगे बढ़ाएंगे, तब उम्मीद जगी थी कि शायद यह भर्ती जल्द शुरू हो जाएगी लेकिन, चयनित सदस्यों का कार्यकाल बढ़ गया फिर भी भर्ती एक कदम भी आगे नहीं बढ़ सकी है। ज्ञात हो कि चयन बोर्ड में इन दिनों 2016 के लिए प्रशिक्षित स्नातक शिक्षकों का साक्षात्कार चल रहा है।

2013 के बाद नहीं हो सकी प्रधानाचार्य भर्ती

शासन के निर्देश पर 2013 में प्रधानाचार्य भर्ती के आवेदन लिए गए, उसके बाद से लेकर अब तक प्रधानाचार्य भर्ती का विज्ञापन नहीं हुआ है, जबकि कालेजों में बड़ी संख्या में पद रिक्त हैं।

तदर्थ शिक्षकों को विनियमित करने पर असमंजस
शासन ने कुछ माह पहले एडेड कालेजों में कार्यरत वरिष्ठ शिक्षकों को तदर्थ नियुक्ति देकर विनियमित करने पर भी चर्चा चली। शासन ने शिक्षा निदेशालय से पत्रचार किया। शिक्षा निदेशक माध्यमिक की ओर से लिखा गया कि 2013 प्रधानाचार्य भर्ती अब तक शुरू नहीं है इसलिए उसका विज्ञापन निरस्त किया जा सकता है। इस मुद्दे पर भी अब तक निर्णय नहीं हो सका है। शासन या फिर चयन बोर्ड ने 2013 की प्रधानाचार्य भर्ती के संबंध में कोई आदेश नहीं दिया है।

Post a comment

0 Comments