डीयू में सभी विषयों के दाखिले प्रवेश परीक्षा से करने की तैयारी, प्रशासन ने नई शिक्षा नीति के तहत दाखिलों के लिए रूपरेखा तैयार की

 डीयू में सभी विषयों के दाखिले प्रवेश परीक्षा से करने की तैयारी, प्रशासन ने नई शिक्षा नीति के तहत दाखिलों के लिए रूपरेखा तैयार की

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय में अब अंडर ग्रेजुएट स्तर के सभी विषयों में दाखिले प्रवेश परीक्षा से करने की तैयारी की जा रही है। प्रवेश परीक्षा के लिए सेंट्रल यूनिवर्सिटी कॉमन एंट्रेस टेस्ट (सीयूसेट) होगा। टेस्ट के अंक और बारहवीं के अंकों के आधार पर मेरिट तैयार होगी।

अभी तक यूजी के दस कोर्सेज के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है। इस प्रवेश परीक्षा को वर्ष 2020 में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) ने आयोजित किया था। नई शिक्षा नीति में देशभर में सभी विश्वविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रम में 2021 से एक ही संयुक्त प्रवेश परीक्षा से दाखिले करने के लिए कहा गया है। यह टेस्ट भी एनटीए ही आयोजित करेगी।


डीयू अधिकारियों के अनुसार दाखिले नई शिक्षा नीति के अनुसार ही होंगे। प्रशासन ने प्रवेश परीक्षा के लिए विस्तृत रूपरेखा तैयार करनी शुरू की है। सीयूसेट के लिए डीयू का प्रस्ताव है कि इसमें बारहवीं के अंकों की वेटेज 50 फीसदी और बाकी 50 फीसदी वेटेज टेस्ट की होगी। विभिन्न बोर्ड से छात्र आने के कारण बारहवीं के अंकों को पर्सेटाइल के हिसाब से तय किया जा सकता है।

प्रशासन का मानना है कि अलग बोर्ड होने से छात्रों के अंकों में समरूपता नहीं होती है। इस टेस्ट के होने से छात्र को अलग अलग विश्वविद्यालय में दाखिला के लिए अलग-अलग प्रवेश परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी। दाखिले का आधार विश्वविद्यालय अपने अनुसार तय कर सकेंगे।

Post a comment

0 Comments